April 25, 2019

Breaking News

अंबेडकर नगर के प्रमुख दर्शनीय स्थल श्रवण धाम, गोविंद साहब

Buddhadarshan News, Ambedkarnagar

भगवान राम की जन्मस्थली अयोध्या से 73 किमी दक्षिण-पूर्व में अंबेडकर नगर जिला स्थित है। रामचरित मानस के प्रमुख पात्र आज्ञाकारी पुत्र श्रवण कुमार से यह जिला संबंधित है। यहां पर गुरु गोविंद साहब का 15 दिनों तक प्रवास स्थान रहा है। यह जिला बाबा निहाल दास मंदिर जैसे प्रमुख दर्शनीय स्थलों के लिए प्रसिद्ध है।

अंबेडकर नगर के युवा सामाजिक कार्यकत्र्ता अनुराग पटेल कहते हैं, ‘ऐसी मान्यता है कि राजा दशरथ ने इसी जिले में तमसा नदी के किनारे राजा दशरथ ने शब्दभेदी बाण के जरिए श्रवण कुमार को मारा था। ऐसा कहा जाता है कि आज भी श्रवण कुमार की आत्मा यहां पर है।’ अत: उनकी याद में यहां पर प्रति वर्ष माघ पूर्णिमा को भव्य मेले का आयोजन किया जाता है। यह स्थान जिला मुख्यालय से 6 किमी की दूरी पर स्थित है। इसके अलावा इस जिला में गुरु गोविंद साहब, शिव बाबा, किछौछा शरीफ दरगाह, बाबा निहाल दास मंदिर, महादेव मंदिर इत्यादि स्थित हैं। अनुराग पटेल कहते हैं कि यह जिला पर्यटन की दृष्टि से अत्यधिक संपन्न है। श्रवण कुमार की याद में 50 एकड़ जमीन पर पांच दिवसीय भव्य मेले का आयोजन किया जाता है।

बाराबंकी के दर्शनीय स्थल

शिव बाबा:

अयोध्या-अकबरपुर मुख्य मार्ग पर जिला मुख्यालय से 4 किमी दूर यह मंदिर स्थित है। यहां प्रत्येक सोमवार और शुक्रवार को श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लगती है। यहां हजारों साल पुराना एक बरगद का वृक्ष भी है।

बलिया के दर्शनीय स्थल

गुरु गोविंद साहब का मेला:

जिला मुख्यालय से कम से कम 39 किमी दूर है। अंबेडकर नगर के बसखारी और आजमगढ़ के बीच गुरु गोविंद साहब का ऐतिहासिक मेला सदियों से लगता आ रहा है। यह मेला लगभग 45 दिनों तक चलता है। यहां पर पालतू जानवरों के अलावा फर्नीचर के सामान मिलते हैं। ऐसी मान्यता है कि गुरु गोविंद साहब यहां पर 15 दिनों तक वास किए थे। तभी से उनकी याद में यहां पर ऐतिहासिक मेले का आयोजन होता है।

किछौछा शरीफ दरगाह:

यह पवित्र दरगाह अकबरपुर – बसखारी मार्ग पर बसखारी से 8 किमी दूर किछौछा नामक स्थान पर स्थित है। यहां देश- विदेश से श्रद्धालु आते हैं।

अब मीरजापुर में रोप-वे से करें मां अष्टभुजा का दर्शन

बाबा निहाल दास मंदिर:

यह मंदिर जिला मुख्यालय से 12 किमी दूर है। माना जाता है कि हजारों साल पहले बाबा डम्मर दास की याद में बाबा निहाल दास जी ने इस मंदिर का निर्माण कराया था। यहां पर प्रत्येक मंगलवार को हजारों की संख्या में लोग आते हैं। यहां एक मेले का भी आयोजन होता है। यहां पर एक बड़े जलाशय का निर्माण कराया गया है। ऐसी मान्यता है कि इस तालाब में स्नान करने पर लोगों के छोटी-मोटी बीमारियां दूर हो जाती हैं। यह अकबरपुर-फैजाबाद (अयोध्या) मार्ग कटेहरी बाजार से 3 किमी दूर इमिलिया नामक स्थान पर स्थित है।

कैसे जाएं वाराणसी

 

महादेव मंदिर: यह मंदिर अकबरपुर रेलवे स्टेशन से दोस्तपुर रोड पर 7 किमी दूर स्थित है।

नोट: यहां ठहरने के लिए सस्ता एवं किफायती दर पर होटल साईं प्लाजा में आप कमरा ले सकते हैं। यह होटल जिला मुख्यालय अकबरपुर में स्थित है। मोबाइल नंबर: 9415172013, अंशुल वर्मा

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *