Thursday, April 25, 2024
Plugin Install : Cart Icon need WooCommerce plugin to be installed.

Tag: President

राष्ट्रपति ने धर्मगुरूओं से अंगदान के लिए जागरूकता फैलाने की अपील की

राष्ट्रपति ने धर्मगुरूओं से अंगदान के लिए जागरूकता फैलाने की अपील की

Buddhadarshan News, New DElhi बुद्धादर्शन न्यूज, नई दिल्ली राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने धर्मगुरूओं से अंगदान के लिए लोगों को जागरूक ...

मस्तिष्क के शुद्धि का उपाय है विपश्यना: कोविंद

मस्तिष्क के शुद्धि का उपाय है विपश्यना: कोविंद

  Vipassana is an effective way to cleanse our mind and body, says President  -भगवान बुद्ध की देन है विपश्यना  बुद्धादर्शन न्यूज, नई दिल्ली राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नागपुर के काम्‍पटी में ड्रेगन पैलेस मंदिर परिसर में विपश्यना ध्‍ान केन्‍द्र का उद्घाटन किया।  इस अवसर पर राष्‍ट्रपति ने कहा कि विपश्यना भगवान बुद्ध द्वारा दी गई वो तकनीक है जो हमें अपनी अंतरमन से जोड़ती है। यह हमारे मस्तिष्‍क और शरीर की शुद्धि का प्रभावी उपाय है और इसके जरिये आधुनिक युग में बढ़ते तनाव का सामना करने की शक्ति मिलती है। The President of India, Ram Nath Kovind, inaugurated a Vipassana Meditation Centre at the Dragon Palace Temple complex in Kamptee, Nagpur on 22 September 2017. Speaking on the occasion, the President said that Vipassana is a meditation technique propounded by Lord Buddha which helps us connect with our inner selves. It is an effective way to cleanse our mind and body and equips us to face the stresses of modern life. If practised correctly, it can provide the same benefit as that received from certain medicines. In this way, Vipassana is also beneficial for health in addition to being a meditation technique. He stated that like Yoga, Vipassana should not be seen as being associated with any particular religion. It is for the welfare of all humanity. राष्‍ट्रपति ने कहा कि यदि विपश्यना का अभ्‍यास सही रूप से किया जाए तो इससे वही लाभ मिल सकते हैं जो हम कुछ दवाओं से प्राप्‍त करते हैं। यह मानवता के कल्‍याण की तकनीक है। राषट्रपति ने कहा कि बौद्ध दर्शन के विचारों का प्रतिबिंब हमारे संविधान में दिखाई देता है। विशेषतौर पर समानता, सद्भाव और सामाजिक न्‍याय के सिद्धांतों के परिपेक्ष्‍य में हम अपने संविधान को पाते हैं। संविधान निर्माता डॉक्‍टर बी आर आम्‍बेडकर ने कहा था कि पुरात‍न भारत में लोकतांत्रिक पद्धति दिखाई देती है। लोकतांत्रिक पद्धति की जड़ें भारत में प्राचीन काल से है। इस संदर्भ में उन्‍होंने बौद्ध संघों में लोकतांत्रिक परम्‍परा के चलन का उदाहरण भी दिया। आज की असुरक्षा के माहौल में महात्‍मा बुद्ध द्वारा अहिंसा, प्रेम और सद्भाव का संदेश प्रासंगिक है। इससे पहले राष्ट्रपति श्री कोविंद ने दीक्षा भूमि का दौरा भी किया और बाबा सा‍हब आम्‍बेडकर को श्रद्धांजलि अर्पित की।

यमुना बायोडायवर्सिटी पार्क की तरह नेपाल में भी खुलेगा पार्क

यमुना बायोडायवर्सिटी पार्क की तरह नेपाल में भी खुलेगा पार्क

नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भण्डारी ने किया यमुना बायोडायवर्सिटी पार्क का दौरा   सुनीता सिंह, नई दिल्ली     बंजर भूमि ...

  • Trending
  • Comments
  • Latest

FIND US ON FACEBOOK