March 18, 2019

Breaking News

पुलवामा में शहीद जवानों के परिजनों को एक महीने का वेतन देंगी केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल

– शहीद महेश यादव के प्रयागराज स्थित गांव में परिजनों से मिलकर अनुप्रिया पटेल ने हर संभव मदद का दिया भरोसा

आतंकवादियों के इस कायराना हरकत के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी सख्त से सख्त कदम उठाएं: अनुप्रिया पटेल

Buddhadarshan News, Lucknow

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल ने गुरूवार को कश्मीर के पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के 49 जवानों की शहादत पर दु:ख प्रकट किया है। उन्होंने घायल जवानों के शीघ्र स्वस्थ होने की ईश्वर से कामना की हैं। अनुप्रिया पटेल ने अपना एक महीने का वेतन शहीद जवानों को समर्पित करने का फैसला किया है। केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल शनिवार को प्रयागराज के मेजा क्षेत्र के तुड़ीहार (बदल का पुरवा)  के शहीद महेश यादव के घर जाकर शहीद के परिजनों को दु:ख की इस घड़ी में सांत्वना दी एवं उन्हें ढांढस बंधाया। उन्होंने शहीद के परिजनों को हर संभव मदद का भरोसा दिया।

कैसे पहुंचे महापरिनिर्वाण स्थल कुशीनगर, बस, ट्रेन, टैक्सी अथवा फ्लाइट

केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने कहा, ‘दु:ख की इस घड़ी में शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की हैं। केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने दु:ख की इस घड़ी में अपना एक महीने का वेतन शहीदों हेतु समर्पित करने का निर्णय लिया है।’

How to reach Sarnath, Bus, Train or flight. कैसे जाएं सारनाथ,

केंद्रीय मंत्री श्रीमती पटेल ने कहा है, “कल कश्मीर के पुलवामा जिले में हमारे 40 से ज्यादा सीआरपीएफ के जवान शहीद हो गए। इस घटना से पूरे देशवासियों में आक्रोश है। आतंकवादियों के इस कायराना हरकत की जितनी भी निंदा की जाए, कम है। हम प्रधानमंत्री जी से मांग करते हैं कि इस कायराना हरकत के लिए आतंकवादियों के खिलाफ सख्त से सख्त कदम उठाया जाए।”

बुद्ध के आठ प्रमुख स्थल: लुम्बिनी, बोधगया, सारनाथ, कुशीनगर

केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने कहा कि इस घटना से एक बार फिर तीन साल पहले कश्मीर के उरी सेक्टर में शहीद जवानों की याद ताजा हो गई। उरी में भी आतंकियों ने रात के अंधेरे में अचानक हमला किया था। जिसमें हमारे कई जवान शहीद हो गए थे। इस घटना के बाद हमारी सेना ने आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दिया था। भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक के जरिए आतंकियों की कमर तोड़ दी थी। आतंकियों को एक बार फिर इसी तरह का मुंहतोड़ जवाब देने की जरूरत है।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *