April 21, 2019

Breaking News

तपस्वी ब्रिजेंद्र प्रताप सिंह ने कुंभ मेला में छोटी नदियों के अस्तित्व के लिए जगाया अलख

छोटी नदियों की रक्षा के लिए कुंभ मेला में आप भी शपथ लीजिए

Buddhadarshan News, Prayagraj

 

प्रयागराज में आयोजित विश्व प्रसिद्ध कुंभ मेला इस समय दुनियाभर के लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। इसी कुंभ मेला में एक तपस्वी भी समाज के कल्याण के लिए साधना कर रहा है। पेशे से पत्रकार एवं अपना दल (एस) के प्रवक्ता ब्रिजेंद्र प्रताप सिंह छोटी नदियों के अस्तित्व को बचाने के लिए कुंभ मेला में अलख जमाए हुए हैं। ब्रिजेंद्र प्रताप सिंह ने ‘छोटी नदियां बचाओ’ अभियान और जल बिरादरी के लिए कुंभ मेला में सेक्टर 6, पांटून पुल नंबर 16 से ठीक पहले कैम्प लगाया है।

Kumbh: देश के हर हिस्से दिल्ली, मुंबई, चेन्नई से प्रयागराज आती हैं ट्रेन

ब्रिजेंद्र प्रताप सिंह ने लोगों से आह्वान किया है, ‘दान कीजिए, महात्म्य कीजिए और जल संरक्षण की मुहिम में भागीदार बनिए।’

प्रयागराज के प्रमुख 9 पर्यटन स्थल

ब्रिजेंद्र प्रताप सिंह की इस पहल को देश ही नहीं , बल्कि दुनिया के अन्य हिस्से से भी सहयोग मिल रहा है। चित्रकार ए.के.डगलस और उनकी टीम भी उन्हें सहयोग कर रही है।

घर बैठे 2019 कुम्भ मेला का करें दर्शन

ब्रिजेंद्र प्रताप सिंह कहते हैं कि भारत में पानी के संकट को टालने और शुद्ध जल बचाए रखने, जंगल और जैव विविधिता बचाए रखने के हमारे संघर्ष को महात्मा गांधी के पौत्र अरुण गांधी, प्रपौत्र तुषार गांधी ने सम्बल और सम्मान दिया। वाटरमैन राजेंद्र सिंह जी का भी विशेष सहयोग मिल रहा है। बता दें कि 15 दिन पहले गोमुख से गंगा सागर तक निकली गंगा सद्भावना यात्रा के समापन के मौके पर ब्रिजेंद्र प्रताप सिंह ने गंगा सागर में खड़े होकर पानी की लड़ाई आगे बढ़ाने और गंगा के साथ छोटी नदियों के संरक्षण के अभियान को और तेज करने का संकल्प दोहराया था।

बता दें कि ब्रिजेंद्र प्रताप सिंह जल, जंगल, जमीन की रक्षा के लिए काफी पहले से संघर्ष कर रहे हैं। इसी अभियान के तहत उन्होंने छोटी नदियों को बचाने का अभियान भी शुरू किया है। उन्होंने छोटी नदियों के संरक्षण के लिए पिछले दिनों नदी न्याय यात्रा भी शुरू की।

आप भी आगे आएं:

बुद्धादर्शन अपनी वेबसाइट के माध्यम से लोगों से अपील करता है कि वह अपने हर कस्बे, गांव, नगर में छोटी नदियां, ताल-तलैया के संरक्षण के लिए आगे आए और लोगों को जागरूक करे। याद रखिए, ‘जल है तो कल है, जल नहीं तो आपकी आने वाले पीढ़ी भी खतरे में पड़ जाएगी।’

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *