February 16, 2019

Breaking News

विंध्यवासिनी देवी: श्रद्धालुओं के लिए हेलीकॉप्टर सेवा, आधुनिक रेलवे व बस स्टेशन की सुविधा होगी विकसित

Buddhadarshan News, New Delhi

पूर्वी उत्तर प्रदेश के विंध्य पर्वत पर स्थित विंध्याचल मंदिर में विंध्यवासिनी देवी के दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं के लिए विशेष सुविधाओं का विकास होने जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल के सौजन्य से यहां पर हेलीकॉप्टर सेवा से लेकर विंध्याचल रेलवे स्टेशन और बस स्टेशन तक का आधुनिकीकरण किया जाएगा। साथ ही गंगा नदी में जलयान सेवा भी शुरू की जाएगी।

विंध्य क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए मीरजापुर और आसपास के जिलों की सड़कों का चौड़ीकरण से लेकर मरम्मत कार्य किया जा रहा है। सड़कों के गड्‌ढों को भरने के लिए त्वरित राहत के तौर पर 84 करोड़ रुपए मिले हैं। जिले में 102 स्थानों पर 225 लाख की लागत से यात्री प्रतीक्षालय का निर्माण कराया जा रहा है।

विंध्याचल रेलवे स्टेशन पर वरिष्ठ नागरिकों के लिए लिफ्ट भी लगाया जाएगा। इसके अलावा चैत्र नवरात्र में यहां पर दर्जन भर ट्रेनों का अतिरिक्त ठहराव देने का निर्णय लिया गया है। यहां पर विंध्यवासिनी देवी का मंदिर के अलावा विंध्याचल त्रिकोण पथ पर स्थित है। ऐसे में देश के दूसरे राज्यों से आने वाले वाहन भी यहां से गुजरते हैं।

मीरजापुर रेलवे स्टेशन का हो रहा आधुनिकीकरण:

इसके अलावा मीरजापुर रेलवे स्टेशन का भी आधुनिकीकरण किया जा रहा है। इसके लिए 15 करोड़ रुपए स्वीकृत हुए हैं। रेलवे लाइन का विस्तार होने पर अब स्टेशन के दक्षिण साइड में टिकट घर के अलावा प्रतीक्षालय व समय सारिणी इत्यादि के बोर्ड भी लगाए जाएंगे। साथ ही स्टेशन पर ओवर ब्रिज का निर्माण होगा, ताकि यात्री सीधे ब्रिज के जरिए अपने प्लेटफार्म पर पहुंच जाएं।

इसे भी पढ़ें:  मथुरा, हरिद्वार, पुष्कर, अमृतसर, वैष्णव देवी की यात्रा करेंगे दिल्ली के 77 हजार बुजुर्ग

ऐसे जाएं विंध्याचल:

आप रेल मार्ग अथवा बस, टैक्सी के जरिए विंध्याचल जा सकते हैं। हवाई यात्रियों के लिए वाराणसी तक एयरोप्लेन से जाएंगे। तत्पश्चात टैक्सी अथवा बस के जरिए विंध्याचल जा सकते हैं।

विंध्याचल इलाहाबाद और मुगलसराय रेल मार्ग पर स्थित है।

मीरजापुर जिला मुख्यालय से विंध्याचल रेलवे स्टेशन की दूरी- 8 km

वाराणसी से दूरी                     – 65 km

मुगलसराय से दूरी                  – 84 km

इलाहाबाद से दूरी                  – 89 km

इसे भी पढ़ें:  अब दिल्ली की सड़कों पर इलाज के अभाव में नहीं जाएगी जान, निजी अस्पतालों में भी मिलेगी फ्री सुविधा

इतिहास:

देश के 51 शक्तिपीठों में विंध्यवासिनी धाम भी शामिल है। यहां से पांच किलोमीटर की दूरी पर अष्टभुजा और कालीखोह मंदिर भी स्थित है।

प्रमुख ट्रेनें:

इलाहाबाद से मुगलसराय जाने वाली देश की तमाम ट्रेनें यहां से गुजरती हैं। अत: नई दिल्ली से इलाहाबाद, मुगलसराय, पटना की ओर जाने वाली अधिकांश ट्रेनें इस मार्ग से गुजरती हैं और जिला मुख्यालय पर रूकती हैं। राजधानी एक्सप्रेस इलाहाबाद और मुगलसराय में रूकती है।

KeyWords: Vindhyavasini Devi, Vindhyachal, Vindhyavasini Devi Temple, Shakti Peeth, Hindu Pilgrimage, Markandeya Purana, Mahishasura, Durga Saptashati, Ganga river, Vindhyachal Railway Station, Varanasi, Sarnath, Mugalsarai, Allahabad , Mirjapur

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *