April 25, 2019

Breaking News

पूर्वांचल को बड़ा तोहफा, कल से मिर्जापुर में शुरू होगा हृदय रोगियों का इलाज

केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के प्रयास से महज 11 महीने में तैयार हुई यूनिट 

Buddhadarshan News, Mirzapur       

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल के विशेष प्रयास से महज 11 महीने में विंध्य की पहाड़ियों पर स्थित मिर्जापुर जनपद के लोगों को शनिवार को हैल्थ सेंटर के तौर पर एक बड़ी सौगात मिलने जा रही है। शनिवार से जनपद के हृदय रोगियों का उपचार जनपद में ही शुरू हो जाएगा। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल शनिवार को मिर्जापुर के मंडलीय जिला अस्पताल में नवनिर्मित कॉर्डियाक केयर यूनिट (सीसीयू) को जनता को समर्पित करेंगी।

Kumbh: देश के हर कोने से प्रयागराज आती हैं ट्रेन

जनपद में कॉर्डियाक केयर यूनिट के निर्माण से अब जनपद के हृदय रोगियों को इलाज के लिए वाराणसी, प्रयागराज अथवा अन्य महानगरों की ओर रूख नहीं करना पड़ेगा।

सरकार योगी की, लेकिन अनुप्रिया पटेल से न्याय की गुहार लगा रहे हैं ओबीसी छात्र 

पिछले साल फरवरी महीने में केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल के विशेष प्रयास से मिर्जापुर जनपद में कॉर्डियाक केयर यूनिट (सीसीयू) खोले जाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा 1.50 करोड़ रुपए की धनराशि जारी कर दी गई थी और महज 11 महीने में यह यूनिट तैयार हो गई, जो कि जनपदवासियों के लिए एक बड़ी सौगात है। 

पापा डॉ.सोनेलाल पटेल की प्रतिमा स्थापना के लिए अनुप्रिया पटेल ने किया भूमि पूजन

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल का कहना है कि इस परियोजना के जनपद में शुरू होने से अब हृदय रोग से पीड़ित मरीजों की स्क्रीनिंग के लिए दूर महानगरों में स्थित बड़े अस्पतालों में जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अब जनपद में ही इस गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीजों की स्क्रीनिंग की जाएगी और उनका उचित उपचार किया जाएगा।

1857 में अवध में अंग्रेजों को करारी शिकस्त देने वाले ‘अमर शहीद राजा जयलाल सिंह’ पर जारी होगा डाक टिकट

बता दें कि मिर्जापुर में कॉर्डियाक केयर यूनिट का खुलना जनपदवासियों को बड़ी राहत मिलेगी। अब तक मिर्जापुर एवं पड़ोसी जनपद सोनभद्र के मरीज इलाज के लिए प्रयागराज (इलाहाबाद), वाराणसी स्थित BHU और लखनऊ के बड़े अस्पतालों की ओर इलाज के आते थें। इससे मरीजों के परिजनों को आर्थिक बोझ के अलावा समय का भी नुकसान होता था। 

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *